Mukesh Khannas statement on Yuvraj Singh fathers Yograj Singh statement on hindu | Yograj Singh हिंदुओं वाले बयान पर भड़के Mukesh Khanna, कहा- ‘पकड़कर इसको मारना चाहिए’

नई दिल्ली: किसान आंदोलन को लेकर क्रिकेटर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) के पिता योगराज सिंह (Yograj Singh) का हिंदुओं पर आपत्तिजनक बयान सामने आया था. इस बयान के सामने आने के बाद उनकी काफी आलोचना हुई. यहां तक कि युवराज ने भी पिता के बयान पर माफी मांगी थी. अब इस पर मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) ने प्रतिक्रिया दी है. युवराज सिंह के पिता योगराज के बयान पर मुकेश ने कहा कि योगराज को बुरी तरह पीटना चाहिए. 

मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) ने कहा, ‘एक शख्स है जिसका नाम है- योगराज सिंह. मैं इनको ‘शख्स’ कहकर अपमानित नहीं करना चाहता था क्योंकि ये हमारे हरदिल अजीज क्रिकेटर युवराज के पिता हैं…. लेकिन उन्होंने हमारे लोगों का अपमान जिस अंदाज में किया है, उनको और भी बुरी तरह संबोधित करना चाहिए. उसके हकदार हैं ये.’

मुकेश खन्ना ने की आलोचना

मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) ने आगे कहा, ‘बहुत से लोग उनके खिलाफ बोल चुके हैं, बहुत लोग मारना चाहते हैं इनको. इन्होंने हिंदुओं के लिए बुरा बोला है. हर किसी को पता है कि हिंदु उनके भाई ही हैं. सरदार भाई भी ये जानते हैं. ये शख्स अपमान कर रहा है…हिदुओं को पकड़-पकड़ कर मारना चाहिए… पर हिंदुस्तान के लोगों ने सहिष्णुता दिखाई है. कैसी-कैसी चीजें टीवी में दिखाई जाती हैं. हिंदुओं में ऐसा होता है वैसा होता है…इतने करोड़ देवी देवता हैं.’

मुकेश ने उठाया हिंदु धर्म का मुद्दा

अपने इस बयान में मुकेश (Mukesh Khanna) ने आगे कहा, ‘मैं पहले भी कह चुका हूं और फिर से कहना चाहूंगा- हिंदू धर्म हाथी है हाथी. चलता रहता है अपनी शान से. आप लोग भौंकते रहते हो उसके पीछे जाकर? हो सकता है कि शराब के नशे में ये शख्स बोल गए हों. उन्हें अपने लड़के युवराज की इमेजा का भी ख्याल न रहा…युवराज ने भी कितने अच्छे से कहा कि मैं इनके स्टेटमेंट के साथ नहीं हूं.’

मर्यादा भूल गए थे Yograj 

योगराज (Yograj Singh)  ने कहा था, ‘ये हिंदू गद्दार हैं, सौ साल मुगलों की गुलामी की’. इतना ही नहीं, उन्होंने महिलाओं को लेकर भी विवादास्पद बयान दिया, जिसके बाद से सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा.

ये भी पढ़ें:   पिता Yograj Singh के बयान पर Yuvraj Singh ने मांगी माफी, कहा- ‘मेरी सोच उनके जैसी नहीं