ED questioned Sushant Singh Rajput former employees | ED ने सुशांत सिंह राजपूत के पूर्व कर्मचारियों से की पूछताछ, किए ये सवाल

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निजी कर्मचारियों से पूछताछ की, जिसमें उनके घर काम करने वाले नौकर भी शामिल रहे. हालांकि दिवंगत अभिनेता के करीबी दोस्त पंकज दुबे उन लोगों में शामिल नहीं रहे, जिनसे ईडी ने पूछताछ की है. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी. ईडी के शीर्ष अधिकारियों के मुताबिक, एजेंसी ने धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए), 2002 के तहत शुक्रवार को रजत मेवाती और दीपेश सावंत के बयान दर्ज किए.

अधिकारी ने कहा कि सावंत सुशांत के घर पर नौकर थे और वह उन पांच लोगों में से थे, जिन्होंने 14 जून को उनके बांद्रा के फ्लैट में दिवंगत अभिनेता का शव देखा था.

ईडी ने दुबे से पूछताछ नहीं की. ईडी के एक सूत्र ने पहले मीडिया से बात करते हुए दुबे के नाम का उल्लेख किया था.

मेवाती सुशांत के अकाउंटेंट थे. उनसे दिवंगत अभिनेता के वित्तीय मामलों और खातों के बारे में पूछा गया. ईडी ने उनसे पूछा कि उन्होंने अपनी नौकरी क्यों छोड़ी और उन्हें भुगतान के लिए कौन निर्देश देता था. अधिकारी विशेष रूप से यह जानना चाहते थे कि क्या अभिनेता की प्रेमिका रिया चक्रवर्ती ने भी उन्हें इस संबंध में कभी कोई निर्देश दिए थे.

वहीं कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया कि दिवंगत अभिनेता अपनी पूर्व प्रेमिका अंकिता लोखंडे के फ्लैट की ईएमआई का भुगतान कर रहे थे. हालांकि अंकिता लोखंडे ने अपनी बैंक स्टेटमेंट की प्रतियां सोशल मीडिया पर साझा करते हुए इसका खंडन किया है.

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “यहां मैं सभी अटकलों को रोकना चाहती हूं. मैं इससे ज्यादा पारदर्शी नहीं हो सकती. यहां मैं अपने फ्लैट के रजिस्ट्रेशन और एक जनवरी 2019 से एक मार्च 2020 तक अपने बैंक अकाउंट्स की पूरी डीटेल दे रही हूं. मेरे अकाउंट से हर महीने ईएमआई कटी. मैं इससे ज्यादा कुछ नहीं कह सकती. सुशांत को न्याय मिले.”

दरअसल एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि सुशांत मलाड में 4.5 करोड़ रुपये की कीमत वाले एक फ्लैट के लिए किस्त भर रहे थे, जहां अंकिता कथित तौर पर रहती हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें ईडी के सूत्रों से यह जानकारी मिली है. इसके कुछ घंटे बाद ही अंकिता ने ट्वीट करते हुए स्थिति साफ कर दी कि वह अपने फ्लैट की किस्त खुद ही भर रहीं हैं.

लोखंडे 14 जून को सुशांत की मौत के बाद से मुखर हैं और इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहीं हैं. वह दिवंगत अभिनेता के परिवार के दावों का भी लगातार समर्थन कर रहीं हैं.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें